रविवार, 13 नवंबर 2011

बार-बार सुरक्षा जांच फिर बार-बार माफी



- राजेंद्र चतुर्वेदी

अमेरिका के हवाई अड्डों पर भारत की हस्तियों की पहले तो जांच होती है, फिर अमेरिका प्राय: माफी भी मांग लेता है, तो इसकी वजह क्या है?

घटना 29 सितंबर की है, मगर पता अब चला है कि अमेरिका में न्यूयार्क के जॉन एफ कैनेडी हवाई अड्डे पर हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का अपमान हुआ था। उनकी समस्त सुरक्षा जांचें हो चुकी थीं, इसके बाद वे एयर इंडिया की फ्लाइट में सवार हो चुके थे, तो भी अमेरिकी सुरक्षा बलों के जवान विमान में घुस आए और जांच के लिए कलाम के जूते और जैकेट को अपने साथ ले गए थे। घटना सामने आने के बाद भारत में तीखी प्रतिक्रिया होना स्वाभाविक है। इसकी एक वजह तो यही है कि हमारा मानस अब भी लोकतांत्रिक नहीं है। हम अपनी जिन महान शख्सियतों को विशिष्ट मानते हैं, सभी तरह के नियम और कानूनों से ऊपर, चाहते हैं कि उनको दुनिया भी वैसा ही माने, पर ऐसा हो नहीं पाता। लिहाजा, हम लोगों को गुस्सा आ जाता है।
कलाम के अपमान के मामले में हमारी तीखी प्रतिक्रिया की दूसरी वजह यह है कि जब हवाई अड्डे पर ही उनकी सभी तरह की सुरक्षा जांचें हो चुकी थीं, तो फिर अमेरिकी जांच एजेंसियों को हवाई जहाज में घुसकर न तो दोबारा उनकी जांच करनी चाहिए थी और न ही उनके जूते उतरवाने चाहिए थे। तब तो कतई नहीं, जब एयर इंडिया के कर्मचारियों ने उन्हें बता दिया था कि जिस व्यक्ति पर तुम लोग संदेह कर रहे हो, वह भारत के पूर्व राष्ट्रपति और महान वैज्ञानिक डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम हैं। अब अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों के लोग घास तो खाते नहीं कि उन्हें हर व्यक्ति आतंकवादी दिखने लगता है। यानी, इस घटना पर हमारी तीखी प्रतिक्रिया जायज और नाजायज, दोनों है। नाजायज इसलिए कि सुरक्षा जांच एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, तो जायज इसलिए कि कलाम साहब की जांच दोबारा क्यों की गई थी?
जो भी हो, मगर इस घटना के कारण देश में बहुत आक्रोश है। विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने अमेरिका स्थिति भारतीय दूतावास से कह दिया है कि इस मामले को ओबामा-प्रशासन के समक्ष उठाया जाए। सुनने में तो यह भी आया है कि इसके लिए अमेरिका ने माफी भी मांग ली है और नहीं मांगी होगी, तो मांग लेगा। पिछले दो-तीन वर्ष में ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जब भारत के विशिष्ट लोगों की अमेरिकी हवाई अड्डों पर तलाशी हुई है और फिर अमेरिका ने बार-बार माफी भी मांगी। बार-बार जांच और फिर माफी, तो इसका कारण क्या है? यही कि अमेरिका में कानूनों से ऊपर कोई नहीं होता। माफी मांगने की औपचारिकता इसलिए पूरी की जाती है कि भारत का रुतबा बढ़ गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें